India becomes the largest country to sell bullet proof jackets in 18 countries of the world

largest country to sell bullet proof jackets

भारत दुनिया के 18 देशों में बुलेट प्रूफ जैकेट बेचने वाला सबसे बड़ा देश बन गया (largest country to sell bullet proof jackets)

भारत विश्व की सबसे बड़ी आपूर्तिकर्ता देशों में शुमार है चाहे बात हो खाद्य सामग्री की या सुरक्षा से जुड़े उपकरणों की

भारत समय रक्षा सामग्रियों के बड़े निर्यातकों में शामिल हो चुका है

इसी क्रम में अगर बात करें बुलेट प्रूफ जैकेट की तो भारत लगभग 18 देशों में इसकी आपूर्ति करता है

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में कहा कि भारत 18 देशों में बुलेट प्रूफ जैकेट की आपूर्ति करता है

प्रतिवर्ष 10 लाख से अधिक की संख्या में बुलेट प्रूफ जैकेटों का निर्माण कर रहा है

 largest country to sell bullet proof jackets

हालांकि सुरक्षा के मद्दे नजर इन 28 देशों के नाम का खुलासा नहीं किया गया है रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आगे ये भी कहा कि भारत देश के सुरक्षा बलों और निर्यात की जरूरतों को पूरा करने के लिए 

सर्कार ने दिया 15 कंपनी को लइसेंस

वही बुलेट प्रूफ जैकेट की उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के लिए 15 कंपनियों को औद्योगिक लाइसेंस भी जारी किए गए है

दूसरी तरफ राजनाथ सिंह ने ये भी कहा कि जैकेट को निर्धारित पैमाने के अनुसार अधिकृत किया जाता है और समय समय पर खरीद की जाती है और विशिष्टताओं के अनुसार सैनिकों को उपलब्ध कराया जाता है

और अब भारत बुलेट प्रूफ जैकेट को सिर्फ अपने उपयोग में न लाकर इसका निर्यात भी कर रहा है

भारत का यह स्थान दुनिया के बेशुमार देशो में नाम शामिल

और अगर बात करें आयात किए क्षेत्र की तो Stockholm International Peace Research Institute की रिपोर्ट के मुताबिक आयात के मामले में भारत 5 स्थान पर है

वहीं पाकिस्तान 11 वें स्थान पर है लेकिन इंडिया के चलते पहली बार भारत वैश्विक हथियार निर्यातकों की श्रेणी में शामिल हुआ है

दो हज़ार के दौरान भारत ने रणनीति के तहत हथियारों की आपूर्ति करता में बदलाव के लिए को बरकरार रखा और इस दौरान अमरीका से हथियारों का आया 2010 की तुलना में 51% घट गया

 कौन देश कितना हथियार  बनता है 

इस बीच अगर बात करें भारत के रक्षा उत्पादों की सबसे बड़ी खरीदारों की तो सबसे पहले हम आता है मैं म्यामार जिसका भारत से हथियारों के निर्यात में 46% हिस्सा है वहीं श्रीलंका का 25% मॉरिशस का 14% हिस्सा है पूरी दुनिया के हथियारों के निर्यात की बात करें तो भारत की हिस्सेदारी सिर्फ 0.2 है

भारत ने क्या किया 5 सालो में

हालांकि भारत ने 5 साल के भीतर अपने डिफेंस निर्यात को बढ़ा कर पांच अरब डॉलर करने का लक्ष्य रखा है

भारत  द्वारा निर्मित रक्षा उपकरणों के निर्यात की बात करें तो दूसरी तरफ भारत ने देश में निर्मित तेजस विमान की बिक्री का फैसला लिया है

Hindustan Aeronautics Limited (HAL full form ) के निर्मित इस विमान की मांग काफी बढ़ी हुई है इसके लिए जेल चार देशों में अपना बेस बनाने का फैसला लिया है

ताकि वे और अधिक देशों को इसकी खरीद के लिए लुभा सके व्यवस्था को और अधिक बल मिलेगा और भारत की दूसरे देशों पर निर्भरता भी कम होगी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.